Ticker

6/recent/ticker-posts

Hindi kahaniya | एक अच्छा व्यक्ति जीवन में ज्यादा कष्ट क्यों उठाता है?| Moral stories in hindi

Hindi kahaniya | एक अच्छा व्यक्ति जीवन में ज्यादा कष्ट क्यों उठाता है?| Moral stories in hindi


जब भी जीवन में हमारे साथ कुछ बुरा होता है, तो हम अपना ज्यादातर समय यह सोचकर बिताते हैं कि ये बुरे काम मेरे साथ ही क्यों हो रहे हैं। मैं इतना बदकिस्मत क्यों हूं? हम अपने आप को बिना किसी वजह दोष देते रहते।

कभी-कभी हमें भगवान पर बहुत गुस्सा आता है। खुद पर और दूसरों पर भी गुस्सा आता है। हम मन ही मन में सोचता रहता हूँ कि मैंने कभी कुछ बुरा नहीं किया, कभी किसी का बुरा नहीं चाहा, फिर भगवान मेरे साथ ही ऐसा क्यों व्यवहार कर रहे हैं?

moral stories in hindi

moral stories in hindi


आज की हिंदी कहानी ‘एक व्यापारी’।

एक बार की बात है, एक व्यापारी था जो भगवान का बहुत बड़ा भक्त था। उन्होंने कभी किसी के साथ बुरा व्यवहार नहीं किया। कभी किसी को दुःख नहीं पहुंचाई।

वह काम पर जाने से पहले हर दिन भगबान के दर्शन के लिए मंदिर जाते थे, फिर प्रार्थना करने के बाद ही काम पर जाते थे।

इस व्यापारी के आस-पास के सभी लोग उसे बहुत पसंद करते थे और उसका नाम, सम्मान पूरे शहर में था।

hindi kahaniya

hindi kahaniya 


दूसरी तरफ़ बहुत बुरे और नीच एक और आदमी थे। वह भी उसी समय भगवान के मंदिर में जाता था, जब यह व्यापारी मंदिर जाते थे ।

लेकिन मंदिर में आते ही, उसने सभी के साथै और उसके आसपास जानवरों के साथ बी गलत व्यवहार किया करते थे, उन्हें चोट पहुंचाते थे।

जानवरों पर पत्थर फेंकते और उन्हें परेशान और घायल करते थे। इसके अलावा, वह रोजाना जुआ खेला करता था और शराब पीना उसकी रोज का काम थी।

inspirational stories in hindi

inspirational stories in hindi


जहाँ व्यापारी के जीवन का मंत्र था सुबह जल्दी उठना और मंदिर जाना, और दिन की शुरुआत भगवान के नाम से करना।

वहाँ वो नीच आदमी के जीवन का मंत्र था सुबह उठके मंदिर जाना, और नंगे पांव जा के जूते चोरी करना। यह नीच व्यक्ति मंदिर जाने और चोरी करने का अवसर नहीं गंवाता। वह मंदिर के बाहर लोगों के जूते लेकर भाग जाता था।

एक दिन तेज बारिश हो रही थी। तब वो नीच आदमी मंदिर में आया। और जब उसने आकर देखा कि वहां कोई नहीं है, तो इस अवसर पर उसने पुरोहित को चकमा देकर प्रणामी के सभी पैसे लेकर भाग गए।

बारिश बंद होने के तुरंत बाद, वो व्यापारी मंदिर में आया। साथमे और लोग भी मंदिर में आने लगे। और जब पैसे चुराने का मामला पता चला, तो सभी ने वो व्यापारी पर पैसे चुराने का आरोप लगाया।

लोग उस व्यापारी का बहुत अपमान करते हैं। कुछ ने कहा कि दंड दो, कुछ ने कहा कि पुलिस को दे दो। कुछ लोगों ने कहा कि कपड़े को देखकर मालूम नहीं होता कि वह चोरी कर सकता है। फिर, चोरी वो भी मंदिर जैसी पवित्र जगह में! इन पापी लोगों पर शर्म करो।

बहुत मिन्नत करने के बाद व्यापारी वहासे किसी तरह बहार आने में सफल रहे। इस घटना के बाद, वह थोड़ी व्याकुलता के साथ सड़क पर चल रहा था।

तभी अचानक एक कार आई और उसे धक्का मारकर फरार हो गई। धक्का लगने से वो व्यापारी गिर गए। यहां तक ​​कि ज्यादा नुकसान नहीं हुआ, बस थोड़ी सी चोट लगें।

अब धक्का लगने के समय किसी तरह एक बैग कार से बाहर जमीन पर गिर जाते हैं। कार में बैठे लोगों ने बैग को नहीं उठायी, क्योंकि वे भागने की कोशिश कर रहे थे।

वो नीच आदमी कुछ दूर खड़ा होके सब कुछ देख रहा था। जैसे ही उसने बैग को गिरते देखा, तुरंत भाग के आया और बैग को उठा ली। 

short motivational story in hindi

short motivational story in hindi


सने बैग खोला और देखा कि उसमें बहुत सारा पैसे हैं। उसने खुशी से झूम उठा। मन ही मन कहता रहा, आज किसका मुंह देखकर उठा। मुझे आज लॉटरी लग गई, मैं मालामाल हो गया।

व्यापारी भी इस घटना को देख रहा था । उन्होंने मन ही मन में बहुत कुछ सोचा और धीरे-धीरे घर लौट आया।

घर आते ही वह व्यापारी ने गुस्से में भगवान की जितनी सारी तस्वीरें और मूर्तियां थी सबको हटा दी। आज उनके जीवन का सबसे बुरा दिन था।

उन्होंने अपने बच्चों और पत्नी को बुलाया और कहा कि - आज से इस घर में कोई भगवान की पूजा नहीं होगी। भगवान जैसी कोई चीज नहीं है, सब कुछ झूठ है। भगवान अंधा है।

इस घटना से वो व्यापारी इतना चौंक गया कि वह ऐ सब सोचते सोचते रात में बिना कुछ खाए-पिए सो गया। और सोचते-सोचते पूरा नींद में चला गया।

story in hindi short
story in hindi short

तब भगवान ने उन्हें सपने में दिखाई दिया, और कहा - जानता है आज तेरा आखिरी दिन था। तू आज मरने वाला था। क्योंकि पिछले जन्म में, तू भी कुछ निर्दोष तीर्थयात्रियों को कारों से कुचल कर मार डाला था। और उन मासूम लोगों की मृत्यु का ऋण तुज पर बकाया में था।

लेकिन इस जन्म के अधिक पुण्य के परिणामस्वरूप, तुझे इस ऋण से बहुत राहत मिली है।

और उस नीच आदमी के पिछले जन्म के परिणामस्वरूप, उसे आज राज्य मिलने बाला था। लेकिन उसका इस जन्म के बुरे कामों के लिए केवल पैसे का एक बैग मिला।

स्वामी विवेकानंद ने एक बार अपने गुरु श्री श्री रामकृष्ण परमहंस देव से एक ही प्रश्न पूछा था – ‘एक अच्छा व्यक्ति जीवन में इतना कष्ट क्यों उठाता है’?

ठाकुर ने उत्तर दिया - हीरा बिना रगड़े अपना तेज नहीं बढ़ाता, और जलने के बिना सोना नहीं चमकता। इसलिए अच्छे लोग पीड़ित नहीं होते, वे भगवान के पास परीक्षा देते हैं। जीवन की परीक्षा। और इससे मिलने वाले अनुभव लोगों को बेहतर होने में मदद करते हैं।

motivational kahani

motivational kahani


रामकृष्णदेव ने आगे कहा - मैं एक बात से बहुत हैरान हूं - जब लोग परेशानी में पड़ जाते हैं तब वह पूछता है - मैं ही क्यों? और जब नया आनंद उठता है, तब वह नहीं पूछता - मैं ही क्यों?


इस हिंदी कहानी से हम किया सीखे?

हम जीवन में चाहे कितना भी दुख झेलें, चाहे हमें कितना भी खतरा मोरे लेना परे, हमें परमत्मा में विश्वास नहीं खोना चाहिए।

अगर आज हमारे साथ कुछ बुरा होता है, लेकिन फिर भी अगर हम अपना कर्तव्य ठीक से निभाते हैं, तो यह हमारे लिए उतना बुरा नहीं होगा जितना बुरा होना चाहिए था। क्योंकि हमारे कर्म से ही हमें अपना भविष्य बनाने में मदद मिलती है।

इसलिए मैं कहता हूं कि अपने कर्म लगन के साथ करो, और ऐसा काम करें जो पूरी दुनिया आपकी जैसा करना चहै। क्योंकि जीतेगा वही जो कुछ करके दिखायेगा।

Think positive, Talk positive, Feel positive

20 best motivational quotes in hindi | motivational quotes in hindi for success


विशेष नोट:

हमारे एक और YouTube चैनल है, जिसका नाम है ‘Freedoms Today’। जहां हम Network marketing के बारे में वीडियो बनाते हैं। अगर आप Network marketing के बारे में जानना चाहते हैं और Network marketing सीखना चाहते हैं तो आप इस चैनल को फॉलो कर सकते हैं। और अगर आप हमसे संपर्क करना चाहते हैं, तो आप हमारी website पर जा सकते हैं।

Freedoms Today Website: http://www.freedomstoday.com/

Freedoms Today YouTube channel: https://www.youtube.com/FreedomsToday


Post a Comment

0 Comments